Aya Rang Rangeela Mela Bhakto Ka Tyohar Hai Lyrics

Aya Rang Rangeela Mela Bhakto Ka Tyohar Hai Lyrics

आया रंग रंगीला मेला भक्तो का त्यौहार है
छाई बहार हैं खुशियां अपार हैं

मील लगता भारी है आती दुनिया साड़ी है
चारों तरफ ध्वजा लहरें लगती शोभा प्यारी है
भक्तों के मुख से हैं गूंजे श्याम की जय जैकार है
छाई बहार हैं खुशियां अपार हैं

श्याम के फागण मेले में एक बार जो भी आता है
श्याम कृपा कर देते हैं हर फागण वो आता है
हर प्रेमी की झोली भरता ये तो लखदातार है
छाई बहार हैं खुशियां अपार हैं

ऐसा गज़ब नज़ारा है और कहीं नहीं मिलता है
किस्मत से खाटू का मेला हर प्रेमी को मिलता है
सजती खाटू नहरी सारी सजता ये दरबार है
छाई बहार हैं खुशियां अपार हैं

फागण की ग्यारस को खाटू देवता भी आते हैं
रूप सलोना श्याम धणी का देख के खुश हो जाते हियँ
गौरी तू भी चल मेले में राकेश गया हर बार है
छाई बहार हैं खुशियां अपार हैं

Aya Rang Rangeela Mela Bhakto Ka Tyohar Hai Lyrics

Leave a Comment