Naam Hai Tera Taran Hara Kab Tera Darshan Hoga

Naam Hai Tera Taran Hara Kab Tera Darshan Hoga

नाम है तेरा तारण हारा कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

तुमने तारे लाखो प्राणी ये संतो की वाणी है
तेरी छवि पर मेरे भगवन ये दुनिया दीवानी है
भाव से तेरी पूजा रचाऊ जीवन में मंगल होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

नाम है तेरा तारण हारा कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

सुरवर मुनिवर जिनके चरन निशदिन शीश झुकाते है
जो गाते है प्रभु की महिमा वो सबकुछ पा जाते है
अपने कष्ट मिटाने को तेरे चरणों में वंदन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

नाम है तेरा तारण हारा कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

मन की मुरादे लेकर स्वामी तेरे चरण में आये है
हम है बालक तेरे चरण में तेरे ही गुण गाते है
भव से पार उतरने को तेरे गीतो का सरगम होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

नाम है तेरा तारण हारा कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर वो कितना सुन्दर होगा

Leave a Comment